महावर को लाइसेंस देने वाले अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर पर गिरी गाज

महावर को लाइसेंस देने वाले अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर पर गिरी गाज

hemant sriwastaw asst drug controlar
रायपुर। नसबंदी कांड में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के निर्देश पर राज्य शासन ने महावर फार्मा प्राइवेट लिमिटेड को लाइसेंस देने वाले अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर को भी निलंबित कर दिया है। इस मामले में अब तक कुल चार अफसरों को सस्पेंड किया जा चुका है। बिलासपुर के नसबंदी कांड में 13 महिलाओं की मौत के बाद प्रदेश भर में सिप्रोसिन का कहर जारी है। सिप्रोसिन टेबलेट रायपुर की महावर कंपनी द्वारा बनाई गई थी। स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव डा. आलोक शुक्ला को जांच के दौरान सिप्रोसिन दवा में जिंक फास्फाइड मिले होने की जानकारी मिली थी, जिसके सेवन से मरीजों के लीवर और किडनी फेल हो रहे थे। श्री शुक्ला ने महावर कंपनी की सभी दवाओं को प्रदेश की छोटी से बड़ी दुकानों तक जप्त करने के निर्देश दे डाले। सिप्रोसिन दवा को पूरे प्रदेश के सभी जिलों से बुला लिया गया है। नसबंदी कांड के बाद अमानक दवाओं के निर्माण को लेकर प्रकाश में आई महावर फार्मा प्राइवेट लिमिटेड को 2013 में दवाई निर्माण का लाइसेंस दिया गया था। बताया जाता है कि  यह लाइसेंस अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर हेमंत श्रीवास्तव द्वारा दिया गया था। स्वास्थ्य विभाग के विश्वस्त सूत्रों की मानें तो महावर फार्मा प्रायवेट लिमिटेड की व्यवस्था को देखते हुए लाइसेंस नहीं दिया जा रहा था, लेकिन लेनदेन के बाद अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर ने इस लाइसेंस को जारी किया था। प्रदेश के प्रमुख स्वास्थ्य सचिव डा आलोक शुक्ला ने बताया कि महावर फार्मा प्राइवेट लिमिटेड को गलत तरीके से लाइसेंस देने के कारण अतिरिक्त ड्रग कंट्रोलर हेमंत श्रीवास्तव को दोषी मानते हुए  निलंबित किया जा रहा है।
इसके साथ ही राज्य शासन ने स्वास्थ्य विभाग के दो अधिकारियों की नवीन पदस्थापनाओं का आदेश जारी किया है। इसमें बिलासपुर के प्रभारी संयुक्त संचालक एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. अमर सिंह ठाकुर को उप संचालक पद के विरूद्ध स्वास्थ्य संचालनालय रायपुर में पदस्थ किया गया है। उनके स्थान पर सर्जरी विशेषज्ञ एवं प्रभारी सिविल सर्जन धमतरी डॉ. सूर्य प्रकाश सक्सेना को प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के दायित्व के साथ-साथ बिलासपुर के साथ-साथ संभागीय संयुक्त संचालक का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। धमतरी के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. विरेन्द्र कुमार साहू, डीआईओ. को अस्थायी रूप से आगामी आदेश तक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी धमतरी के प्रभार के साथ-साथ वहां के सिविल सर्जन का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

Please follow & like us:

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.